48,236 युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य

देहरादून। सचिवालय सभागार में उत्तराखण्ड कौशल विकास विभाग द्वारा संचालित योजनाओं की प्रगति की समीक्षा बैठक मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में प्रभारी सचिव कौशल विकास रणजीत सिन्हा ने अवगत कराया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पी.एम.के.वी.वाई-2) में भारत सरकार द्वारा 48236 युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसमें अभी तक 69 विभिन्न व्यवसायों से सम्बन्धित प्रशिक्षण में 27919 युवाओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है तथा 22198 युवाओं को प्रमाणित किया जा चुका है एवं 9142 प्रशिक्षित युवा विभिन्न उद्यमों में नियुक्ति प्राप्त कर चुके हैं। साथ ही 19 हजार युवाओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण से प्रशिक्षित किया जा रहा है।
समीक्षा के दौरान मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि पलायन वाले जनपदों यथा पौड़ी, चम्पावत, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा में नीति आयोग की संस्तुति का संज्ञान लेते हुए स्थानीय उत्पादों आधारित रोजगार परक व्यवसायों में युवाओं को प्रशिक्षित किया जाए। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में सेवा क्षेत्र में रोजगार व स्वरोजगार की बहुत सम्भावनायें हैं, जिसको देखते हुए स्किल डेवलपमेंट स्क्रीम में सेवा क्षेत्र आधारित प्रशिक्षण कार्यक्रम में बल दिया जाए। प्रभारी सचिव रणजीत सिन्हा ने अवगता कराया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना में सेवा क्षेत्र में प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। समीक्षा के दौरान अपर सचिव कौशल विभाग मिशन डॉ. अहमद इकबाल ने बताया कि मार्च 2020 तक अल्पकालिक प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यमों से लगभग एक लाख युवाओं को प्रशिक्षित किये जाने का लक्ष्य गतिमान है। उन्होंने बताया कि युवाओं को सेवायोजित करने के लिए पर्यटन के क्षेत्र में मेसर्स स्ट्रगलिंग होलीडे के साथ अनुबंध किया गया हैं तथा ऑटोमेटिव व्यवसाय में युवाओं को रोजगार के अवसर दिलाने के लिए मेसर्स होण्डा कम्पनी से भी अनुबंध किया जा रहा है। बैठक में अपर निदेशक कौशल विकास केन्द्र चन्द्रकांता, समन्वयक एस.पी. सचान सहित सम्बन्धित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here