जनसरोकारों से जुडे रहना चाहते हैं पंवार

हरेन्द्र प्रसाद
देहरादून। ऐंसे कर्मयोगी शायद कम ही हैं, जिनकी देश परदेश में हो,लेकिन मन में हमेशा अपनी माटी से जुडे होने की चाह और सरोकारों में रचे बसे होने का अहसास। हजारों मील दूर मुंबई जैंसे आलीशान महानगर में रहने के बावजूद हमेशा ही अपने जन्म क्षेत्र और पहाड़ के लिए पीडा। शिक्षाविद और उत्तराखंड सरकार में सलाहकार के एस पंवार इसमें ऐसी सखसियत है जिन्हें ऐंसा मुकाम हासिल हुआ है। पंवार आज देश के प्रख्यात उद्योगपति हैं,लेकिन सरल स्वभाव तथा आम जन के बीच साधरण जीवन यापन ने उन्हें असाधरण व्यक्तित्व बनाया है।
मधमेश्वर घाटी के सुदूरवर्ती गैंड गांव में जन्में डा.ॅ के.एस. पंवार की प्रारम्भिक शिक्षा गैड़ गांव के प्राथमिक विद्यालय एवं माध्यमिक शिक्षा मनसूना में हुई। उच्च शिक्षा और भविष्य के सपनों की उडान मन में लिए डॉ. के. एस. पंवार को अपने मामा जी के घर सिक्कम जाना पढ़ा। उच्च शिक्षा प्राप्ति के बाद डा.ॅ पंवार मुम्बई नौकरी की तलास में निकल पडे। जहां उन्हे केमिट्रीट इण्डिया प्रायवेट लिमिटेड में प्रोजेक्ट मैनेजर का पद सम्भाला। कुछ समय यहां नौकरी करने के पश्चात उन्होंने अपनी कठिन मेहनत, लगन, परिश्रम व दृड़ ईच्छा शाक्ति से पॉलीगॉन केमिकल प्रा0 लि0 की स्थापना की।
2010 में देहरादून की सोशल ग्रुप ऑफ कम्पनीज को हायर किया और वर्तमान समय में पॉलीगॉन एवं सोशल ग्रुप के अध्यक्ष है। समय से साथ- साथ डॉ पंवार ने अपने कारोबार को अपनी लगनशीलता और व्यवहार के माध्यम से आगे बढाया और सौर ऊर्जा के क्षेत्र में पर्दापण कर सोशल ईजीनियरिंग प्रा. लि की स्थापना की साथ ही एच2ओं मिनरल वाटर, पॉलीगॉन एग्रों प्रा0 लि0 केपसिड हेल्थ कियर कम्पनीयां की स्थापना कर उत्तराखंड समेत अनेक राज्यों के सैकड़ों बेरोजगार युवाओं को रोजगार दिया। शिक्षा के क्षेत्र में सोशल बलूनी पब्लिक स्कूल की स्थापना कर उत्तराखंड की लोकभाषांओ गढवाली, कुमाउनी, जौनसारी का विध्वित पाठयक्रम चलाकर उत्तराखंड के शिक्षा जगत में इतिहास रच दिया।

स्वरोजगार के लिए खोली राह गांव बना रोजगार का माडल
सरल स्वभाव व मृदुभाषी व्यवहार के लिए जाने- जाने वाले डॉ. पंवार उत्तराखंड के सबसे बडे उद्योगपतियां में सुमार होते है। अपनी माटी से विश्ेष लगाव रखने वाले डॉ.पंवार का अपनी जन्मभूमि से खास लगाव रहा हैं जिन्होने अपने ही गांव में सेब के 3000 से अधिक पेंड़ लगा कर और होम स्टे, सहकरीता के माध्यम से ट्राउटफिस स्थानीय लोगों को स्वरोजगार के लिए एक मॉडल प्रस्तुत किया है।

देश-विदेश में दर्जनों पुरस्कार हासिल कर चुके हैं पंवार
औद्योगिक क्षेत्रा में विशेष योगदान के लिए डॉ. क.े एस. पंवार को देश और विदेशों अभी तक दर्जनों बार पुरूष्कार दिये जा चुके है। जिसमें उत्तराखंड विभूषण,राईजिंग स्टार ऑपफ एसिया अर्वाड,ज्वैल ऑपफ इण्डिया अवार्ड,आउट स्टेंडिंग एचीवमेंट आर्वड पफार बिजनसे डेवलपमेंट,गोल्डन सिटिजन ऑपफ इंण्डिया अवार्ड,राजीव गांधी गोल्ड स्टार अवार्ड,इंडो नेपाल फ्रेंड्सशिप अवार्ड,इंदिरा गांध्ी एक्सीलेंस अवार्ड,इंडियन अचीवर्स अवार्ड पफॉर सोशल सर्विसेज,भारतीय उद्योग रत्न अवार्ड, भारतीय निर्माण रत्न आवार्ड, इंडियन एचिवर्स अवार्ड पफॉर इंडस्ट्रियल डेवलपेंट, अमर उजाला-विकास फाउंडेशन प्रथम उत्तराखंड उदय सम्मान सुपर क्वालिटी क्राउन,एसक्यूसी एंड सर्टिफिकेट ऑफ क्वालिटी एश्योरेंस, क्यूसी,उद्योग रत्न 2014 गढवाल भ्रातृ मंडल संस्था क्लेमेन्टटाउन समेत अनेकों सम्मान प्रमुख है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here