पुरोहित बोले, आखिर चाहती क्या है उत्तराखण्ड सरकार

गंगोत्री। कोरोना के वैश्विक संकट को देखते हुए  गंगोत्री धाम मंदिर समिति के पुरोहितों ने सभी तीर्थयात्रियों पर 15 अगस्त तक दर्शन पर रोक लगा दी है। इस बाबत मन्दिर समिति ने उत्तरकाशी के जिलाधिकारी को पत्र भी भेज दिया है।

पत्र में कहा गया है कि सभी पुरोहितों, साधु संतों व स्थानीय व्यापारियों ने फैसला किया है कि 29 जुलाई से 15 अगस्त तक स्थानीय व बाहरी तीर्थयात्री प्रवेश नही कर पाएंगे। दो किलोमीटर दूर से ही किसी को भी गंगोत्री में प्रवेश नही करने दिया जाएगा।

उत्तराखंड में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है। प्रतिदिन औसतन 200 से 250 के बीच नए मरीज सामने आ रहे है। अगर यही रफ्तार रही तो नवंबर तक उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 30 हजार तक पहुंच जाएगी। ऐसे में इस समय समूचे देश के लिए चारधाम यात्रा खोलने से कोरोना का खतरा पहले से कई गुना बढ़ जाएगा।
पत्र में कहा गया है कि तीर्थयात्रियों के आने से कोरोना फैलने का खतरा बढेगा। पुरोहित और उसके परिजन कोरोना की चपेट में आ सकते हैं। मन्दिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ने डीएम से तीर्थयात्रियों के प्रवेश रोकने के लिए सहयोग मांगा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here