27 को 14वीं उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान का उद्घाटन 

देहरादून। यूकॉस्ट के प्रबंधक जनसम्पर्क अमित पोखरियाल ने बताया कि देश एवं प्रदेश के सैकड़ों वैज्ञानिक, शिक्षाविद, शोधार्थी एवं चिन्तक अपने-अपने क्षेत्र में विज्ञान की नये वैज्ञानिक खोजों, संभावनाओं तकनीकी पर विचार-विमर्श के लिए यूकॉस्ट में  27 से 29 फरवरी तक उपस्थित रहेगें। यह मौका  14वीं उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस के आयोजन का है। उन्होंने बताया कि उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार, ए0 सी0 एस0 टी0 सी0, डी0एस0टी0, भारत सरकार, नासी उत्तराखण्ड अध्याय एवं जी0बी0 पन्त राष्ट्रीय हिमालय पर्यावरण संस्थान एवं सतत विकास अल्मोड़ा द्वारा  27 से 29 फरवरी तक अपने परिसर, विज्ञान धाम, झाझरा में 14वीं उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्धेश्य युवा शोधार्थी एवं वैज्ञानिकों को देश-दुनिया के प्रतिष्ठित वैज्ञानिक समुदाय के समक्ष अपने शोध कार्य का प्रस्तुतीकरण और नयी वैज्ञानिक खोजों से रूबंरू होना है। प्रदेश में वैज्ञानिकों के आपसी विचारों एवं शोधों के आदान-प्रदान एवं नवीनतम तकनीकी के लोकव्यापीकरण के एक सशक्त माध्यम के रूप में वार्षिक विज्ञान काग्रेंस की महत्वपूर्ण भूमिका है। प्रदेश में यूकॉस्ट द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित विज्ञान काग्रेंस वैज्ञानिकों के एक साझा मंच के रूप में अपनी पहचान बना चुका है।

यूकॉस्ट के महानिदेशक डॉ. राजेन्द्र डोभाल ने बताया कि विज्ञान कांग्रेस का उद्धाटन मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के मुख्य सचिव, उत्पल कुमार सिंह, आई0ए0एस0 एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ0 एस0एस0 नेगी, उपाध्यक्ष, उत्तराखण्ड पलायन आयोग द्वारा की जायेगी। इस कांग्रेस में ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक, शिक्षाविदों को विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने हेतु सम्मानित किया जायेगा। उद्घाटन समारोह के अवसर पर आर0के0 सुधांशु, सचिव, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, उत्तराखण्ड शासन, प्रो0 मुकेश त्रिपाठी, निदेशक, एम्स, विजयवाड़ आन्ध्रप्रदेश, प्रो0 अशोक मिश्रा, भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगररू, डा0 प्रकाश चौहान, निदेशक, इण्डियन इन्स्टीटीयूट ऑफ रिमोट सेंसिंग, देहरादून, डॉ0 आर0एस रावल, निदेशक, जी0बी0 पन्त राष्ट्रीय हिमालय पर्यावरण एवं सतत् विकास संस्थान, अल्मोड़ा विशिष्ठि अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे। 27 एवं 28 फरवरी, 2020 को ’हिमालयन नॉलेज नेटवर्क’ पर जी0बी0 पन्त राष्ट्रीय हिमालय पर्यावरण एवं सतत् विकास संस्थान, अल्मोड़ा एवं यूकॉस्ट द्वारा बहुत ही महत्वपूर्ण विचार मंथन एवं संगोष्ठि का आयोजन किया जायेगा साथ ही तीन दिवसीय कांग्रेस के दौरान राष्ट्रीय गणित दिवस एवं राष्ट्रीय विज्ञान दिवस भी मनाया जायेगा।

उन्होंने बताया कि इस बार की विज्ञान काग्रेंस में प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों एवं उच्च शैक्षणिक संस्थानों से 500 शोधार्थी इसमें प्रतिभाग करेगें। इस अवसर पर तीन ख्याति प्राप्त वैज्ञानिकों को ‘सांइस एण्ड टैक्नोलाजी एक्सैलेंस अवार्ड’ एवं राज्य से एक विज्ञान शिक्षक को ’उत्कृष्ट विज्ञान शिक्षक पुरस्कार’ से सम्मानित किया जायेगा तथा 17 विषय समूहों के प्रस्तुतिकरण में युवा वैज्ञानिकों को ’उत्कृष्ट युवा वैज्ञानिकों’ पुरस्कार दिया जायेगा साथ ही 01 युवा वैज्ञानिक को इनोवेटर आफ इयर के लिए चुना जायेगा।

उल्लेखनीय है कि पूर्व में दिये गये इन पुरस्कारों से सम्मानित युवा वैज्ञानिक वर्तमान में देश-दुनिया के उच्च एवं प्रतिष्ठित संस्थानों में महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवायें प्रदान कर रहे हैं। महत्वपूर्ण यह भी हैं कि देशभर के विभिन्न विषयों के लगभग 150 प्रसिद्ध वैज्ञानिक इस आयोजन में मार्गदर्शी के रूप में उपस्थित रहेगें। नासी व्याख्यान माला के तहत ’’विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में रचनात्मक और नवीनता को बढ़ावा देना’’ विषय पर ख्याति प्राप्त प्रो0 अशोक मिश्रा, भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर उपस्थित वैज्ञानिकों एवं प्रतिभागियों को उद्घाटन सत्र में सम्बोधित करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here