नए भारत’ की होगी नई शिक्षा नीति 

देहरादून। केंद्र सरकार नई शिक्षा नीति लाने वाली है, जो ‘नए भारत’ की आधारशिला रखेगी और यह प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत, समृद्ध भारत और श्रेष्ठ भारत के सपने को पूरा करने वाली होगी। यह विचार आज केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी के दसवें दीक्षांत समारोह में भाग लेते हुए व्यक्त किए।
केंद्रीय मंत्री श्री पोखरियाल ने इस अवसर पर निजी विश्वविद्यालयों के अच्छे प्रयासों की सराहना करते हुए सरकार के साथ मिलकर शिक्षा के क्षेत्र में भागीदारी निभाने के लिए प्रोत्साहित किया। इसके अलावा उन्होंने डिग्री पाने वाले छात्रों से चुनौतियों का सामना करके आगे बढ़ने और एक योद्धा की तरह विजन को मिशन में तब्दील करने का आह्वान किया।
आज ही केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने मालवीय नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में लगभग 45 करोड़ के बजट से तैयार होने वाले 240 कमरों के बॉयज हॉस्टल की नींव भी रखी। इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत ने सदियों से हर क्षेत्र में नेतृत्व दिया है। तक्षशिला-नालंदा जैसे विश्वविद्यालय हमारी समृद्ध धरोहर हैं। हमें पीछे छूट गई खाई को पाटने के लिए अपनी सृजनात्मकता को बढ़ाना होगा और भारत को पुनः विश्व के शीर्ष पर पहुंचाना होगा। इसके लिए उन्होंने छात्रों को बड़ों के मार्गदर्शन में ऊंची छलांग लगाने के लिए प्रेरित किया।
दीक्षांत समारोह में भाग लेते हुए राजस्थान के उच्च शिक्षा मंत्री श्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि राज्य सरकार ने भौगोलिक रूप से विस्तृत राजस्थान के तहसील एवं उपखंड स्तर पर उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु पिछले बजट में 50 नए महाविद्यालय खोले थे। जिनसे 10,000 से ज्यादा ग्रामीण विद्यार्थियों को लाभ मिल रहा है। इसके अलावा राज्य सरकार ने पिछले दिनों दो नए विश्वविद्यालय भी खोले हैं।
इस अवसर पर जयपुर के सांसद श्री रामचरण बोहरा ने कहा कि केंद्र सरकार नए भारत के निर्माण हेतु रोजगार, स्वास्थ्य एवं शिक्षा पर विशेष ध्यान दे रही है। साथ ही उन्होंने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती को याद करते हुए छात्रों को सादगी में ही सारगर्भिता की सीख देते हुए नए भारत के निर्माण में योगदान देने हेतु प्रोत्साहित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here